BREAKING NEWS
स्कूल के समय में नहीं होगा बदलाव!, शिक्षा विभाग ने पोस्ट कर बता दिए नियम एंबुलेंस से हो रही थी ब्रांडेड शराब की तस्करी, उत्पाद विभाग की टीम डिजाइन को देख हैरान चुनाव बहिष्कार करने वाले सहरौन गांव के निर्दोष ग्रामीणों पर मुकदमा एवं गिरफ्तारी करने की समाजसेवियों... तीन दिन से लापता युवक की गंगा नदी से मिली लाश, प्रोपर्टी डीलर पर आरोप समस्तीपुर में गंगा नदी में डूबे असम राइफल्स के जवान का शव 16 घंटे बाद मिला, परिवार को दी गई सूचना ‘जब तक जिंदा हूं धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं करने देंगे’, मुजफ्फरपुर में बोले पीएम मोदी गया में वज्रपात से महिला समेत चार लोगों की मौत, आधा दर्जन बकरियां भी आईं चपेट में; परिजनों में कोहरा... सीएम नीतीश कुमार की तबीयत इतनी खराब है? लोकसभा चुनाव से ज्यादा इस सवाल पर लोग चिंतित गोपालगंज में प्रेमी जोड़े पर जानलेवा हमला; प्रेमिका की मौके पर मौत, युवक की हालत नाजुक नवादा में टीसी न मिलने से गुस्साए छात्रों ने स्कूल में जड़ा ताला; BEO ने पूर्व प्रभारी को किया निलंब... ढूंढा तो जहर खा लूंगी, तीन महीने भक्ति करने के लिए जा रही हूं, ऐसा लिखकर तीन सहेलियां घर से गायब बेगूसराय के बड़े स्कूल के परिसर में फेंका बम, खिड़की के पास फटा; क्यों और क्या हुआ, जानें कई दिनों से लापता मासूम का मिला शव, अगवा कर हत्या की जताई गई आशंका; पुलिस जांच में जुटी 50 हजार का इनामी कुख्यात गिरफ्तार, पुलिस की आंख में धूल झोंककर काट रहा था फरारी; अब सलाखों के पीछे दो दिन से लापता किशोर का तालाब में मिला शव, भाई ने कहा- मोहित के साथ हुई अप्रिय घटना; पुलिस करे जांच फांसी का फंदा लगाकर किशोरी ने की आत्महत्या, पारिवारिक विवाद के चलते उठाया कदम; पुलिस जांच में जुटी 7 महीने बाद प्रिंसिपल हत्याकांड से उठा पर्दा, 8 लाख के विवाद में हुई थी हत्या; ढाई लाख की दी गई सुपा... रेल पुलिस ने 67 लाख 28 हजार रुपए के साथ एक शख्स को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस शाहनवाज हुसैन तेजस्वी यादव पर बरसे, क्यों कहा- ..लालू जी का अपमान करने लगते हैं जांघ में थी परेशानी, चली गई जान; डॉक्टर के बगैर खून-स्लाइन चढ़ाने का आरोप, परिजनों ने काटा बवाल
केटेगरी :
बगहाकनाडा से छठ करने बगहा पहुंचा NRI बेटा, मां ने कहा- इस...

कनाडा से छठ करने बगहा पहुंचा NRI बेटा, मां ने कहा- इस बार घर पर नहीं पाएगी छठ पूजा, बहू बोली- मैं निभाउंगी परंपरा

बगहा (वाल्मिकीनगर) : बगहा के रहने वाले एक NRI परिवार छठ व्रत की शुरुआत करने के लिए लंबे समय बाद कनाडा बगहा लौटा है। दरअसल, नगर के वार्ड नंबर 5 निवासी मनोरमा देवी के पुत्र मृणाल प्रताप सिंह कनाडा के टीसीएस में वर्षों से सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत है। वहीं किसी कंपनी में इनकी पत्नी भी इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं। मृणाल ने बताया कि इस वर्ष मां बीमार पड़ गई थी। कुछ दिन पहले मां का फोन गया।

मां ने बताया कि इस वर्ष छठ पूजा नहीं हो सकेगी। इधर, मृणाल की पत्नी इंजीनियर सुरभि अपनी सास के छठ को खुद लेना चाहती थी। लेकिन अचानक सब कुछ ऐसे होगा यह सुरभि ने नहीं सोचा था।

बीमारी कि वजह से इस बार मां छठ बैठाने जा रही हैं। यह सुनते ही NRI बेटा का मन बेचैन हो उठा। रात-दिन एक करके उसने असम्भव से लगने वाले कार्य को सम्भव किया और मां की जगह स्वयं छठ करने सात समंदर पार कर बिहार के बगहा आ पंहुचा। इस बार नरैनापुर बगहा के छठ घाट पर इंजीनियर मृणाल प्रताप सिंह स्वयं छठ करने पहुंचे हैं औऱ यहीं वजह है कि घर परिवार में बेहद खुशी व हर्षोल्लास के साथ छठ व्रत किया जा रहा है।

अगले बार से पत्नी करेंगी छठ

दंपत्ति की एक छोटी सी बच्ची है। जिसके कारण इस वर्ष इंजीनियर सुरभि छठ नहीं कर सकती थी। इसे देखते हुए बेटे ने इस साल मां से छठ व्रत लेते हुए छठ के परंपरा को आगे बढ़ाने का काम किया। इंजीनियर सुरभि ने बताया कि बच्ची छोटी है अगले साल से वह स्वयं ही छठ करेंगी।

ओसीआई कार्ड बनवाने में हुई परेशानी

NRI दंपती ने बताया कि सबसे कठिनाई बच्ची के लिये ओवरसीज कार्ड ऑफ इंडिया (ओसीआई कार्ड) बनवाने में हुई। फिर एक दुधमुंही बच्ची के साथ 16 घंटे की हवाई यात्रा व लगभग 24 घंटे की रेलयात्रा आसान नहीं था।

इंजीनियर सुरभि छठ नहीं कर सकती थी।

इसे भी पढ़ें :
बगहा में सड़क हादसा, 5 घायल, खड़े ट्रक में ऑटो ने मारी टक्कर, बाइक सवार को बचाने के दौरान हुआ हादसा; दो की स्थिति गंभीर

बचपन की याद खींच लाई बिहारमृणाल बताते है कि आंखों के सामने बचपन की वह तस्वीरें नाचने लगी थीं जो छठ की यादों को और जीवंत करने लगा लिहाज़ा वतन वापसी हुई है। बचपन मे वे दउरा माथा पर लेकर नारायणी नदी के तट पर जाया करते थे। नीम अंधेरे गन्ना व हाथी के साथ कोसी भरने जानते थे। फिर घाट से ठेकुआ के परसादी का सिलसिला शुरू हो जाता था।

बचपन की स्मृतियों के सजीव होने के साथ ही यह भी ज्ञान हुआ कि कहीं मेरे चलते परिवार की यह परंपरा टूट न जाये औऱ आस्था व सूर्य उपासना का अनुष्ठान छूट न जाए। इसलिए रात-दिन एक करके विदेश यात्रा को संभव बनाया। छठव्रती इंजीनियर मृणाल बताते हैं कि दादी ने उम्र के एक पड़ाव पर इस व्रत व विरासत को उनके मां को सौंप दिया था। फिर मां ने बड़ी निष्ठा के साथ दशकों इस व्रत का निर्वाह किया। कई बार मैं आ जाता था लेकिन अक्सर महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट कार्यरत होने की वजह से छुट्टी नहीं मिल पाती थी और आना सम्भव नहीं हो पाता था। लेकिन इस दफे मां ने असमर्थता जतायी तो वे खुद को रोक नहीं सके।

सोर्स लिन्क : दैनिक भास्कर

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेखक की अन्य खबरें