BREAKING NEWS
स्कूल के समय में नहीं होगा बदलाव!, शिक्षा विभाग ने पोस्ट कर बता दिए नियम एंबुलेंस से हो रही थी ब्रांडेड शराब की तस्करी, उत्पाद विभाग की टीम डिजाइन को देख हैरान चुनाव बहिष्कार करने वाले सहरौन गांव के निर्दोष ग्रामीणों पर मुकदमा एवं गिरफ्तारी करने की समाजसेवियों... तीन दिन से लापता युवक की गंगा नदी से मिली लाश, प्रोपर्टी डीलर पर आरोप समस्तीपुर में गंगा नदी में डूबे असम राइफल्स के जवान का शव 16 घंटे बाद मिला, परिवार को दी गई सूचना ‘जब तक जिंदा हूं धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं करने देंगे’, मुजफ्फरपुर में बोले पीएम मोदी गया में वज्रपात से महिला समेत चार लोगों की मौत, आधा दर्जन बकरियां भी आईं चपेट में; परिजनों में कोहरा... सीएम नीतीश कुमार की तबीयत इतनी खराब है? लोकसभा चुनाव से ज्यादा इस सवाल पर लोग चिंतित गोपालगंज में प्रेमी जोड़े पर जानलेवा हमला; प्रेमिका की मौके पर मौत, युवक की हालत नाजुक नवादा में टीसी न मिलने से गुस्साए छात्रों ने स्कूल में जड़ा ताला; BEO ने पूर्व प्रभारी को किया निलंब... ढूंढा तो जहर खा लूंगी, तीन महीने भक्ति करने के लिए जा रही हूं, ऐसा लिखकर तीन सहेलियां घर से गायब बेगूसराय के बड़े स्कूल के परिसर में फेंका बम, खिड़की के पास फटा; क्यों और क्या हुआ, जानें कई दिनों से लापता मासूम का मिला शव, अगवा कर हत्या की जताई गई आशंका; पुलिस जांच में जुटी 50 हजार का इनामी कुख्यात गिरफ्तार, पुलिस की आंख में धूल झोंककर काट रहा था फरारी; अब सलाखों के पीछे दो दिन से लापता किशोर का तालाब में मिला शव, भाई ने कहा- मोहित के साथ हुई अप्रिय घटना; पुलिस करे जांच फांसी का फंदा लगाकर किशोरी ने की आत्महत्या, पारिवारिक विवाद के चलते उठाया कदम; पुलिस जांच में जुटी 7 महीने बाद प्रिंसिपल हत्याकांड से उठा पर्दा, 8 लाख के विवाद में हुई थी हत्या; ढाई लाख की दी गई सुपा... रेल पुलिस ने 67 लाख 28 हजार रुपए के साथ एक शख्स को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस शाहनवाज हुसैन तेजस्वी यादव पर बरसे, क्यों कहा- ..लालू जी का अपमान करने लगते हैं जांघ में थी परेशानी, चली गई जान; डॉक्टर के बगैर खून-स्लाइन चढ़ाने का आरोप, परिजनों ने काटा बवाल
केटेगरी :
सम्पादकीयकहां है समाज? HIV संक्रमित माता-पिता की मौत हो गई, बच्ची भी...

कहां है समाज? HIV संक्रमित माता-पिता की मौत हो गई, बच्ची भी संक्रमित; परिजनों ने संपत्ति हड़प सड़क पर ला दिया

सम्पादकीय : भारत सरकार और बिहार सरकार एचआईवी पीड़ित मरीज और खासकर बच्चों को सहायता करने के लिए लोगों को जागरूक कर रही है। लेकिन जमीन पर कुछ और ही देखने को मिल रहा है। एचआईवी पीड़ित एक बच्ची की कहानी इतनी दर्द भरी है कि सुनने वाले की आंख भी भर  जाए। दरअसल, एक बच्ची के माता-पिता एचआईवी पीड़ित थे, इसलिए वह भी एचआईवी की शिकार हो गई। छह साल पहले माता-पिता की मौत के बाद लड़की अनाथ हो गई। अब उसकी जिंदगी नर्क बन गई है।

दरअसल, माता-पिता की मौत के बाद जिन चाचा और चचेरे भाई को सहारा बनना चाहिए था, वे सहारा बनने के बजाय उसकी संपत्ति ही हड़प कर बैठ गए। बच्ची को खाने पीने रहने पढ़ाई और दवाई की दिक्कत हुई तो वह रोह पुलिस के शरण में पहुंची है। फिलहाल उसे शेल्टर होम में रखा गया है। यह मामला नवादा जिले के रोह थाना क्षेत्र के मोरमा गांव का है। जहां की एक 14 वर्षीय अनाथ बच्ची ने थाने में आकर गुहार लगाई कि अब हमें किसी के पास नहीं रहना है।

‘मुझे सुरक्षित जगह पर भेजें लड़की बोली’

मामला सामने आया तो नेहा ग्रामीण महिला विकास समिति की सोशल वर्कर रजनी कुमारी ने अनाथ लड़की से इस संबंध में जानकारी ली। पूछताछ के दौरान उसने कहा कि उसके चाचा और चचेरे भाई ठीक से नहीं रखते। वह पढ़ना चाहती है और वह जीना चाहती है। लेकिन उसका मजाक उड़ाया जाता है। पीड़ित लड़की ने कहीं सुरक्षित जगह पर पुलिस प्रशासन से भेजने की आग्रह किया है। रजनी कुमारी ने बालिका गृह से बात कर वहां रखने का अनुरोध किया। फिलहाल उसे शेल्टर होम में ही रखा गया है।

पढ़ाई करना चाहती है बच्ची

हालांकि चचेरा भाई लड़की को रखने के लिए तैयार था, लेकिन लड़की ने उसके साथ रहने से इनकार कर दिया। उसने कहा कि यह लोग रखना चाहते हैं, लेकिन दुख देते हैं। पढ़ाई दवाई का इंतजाम नहीं करते। लड़की ने थानाध्यक्ष के समक्ष कुछ पैसे की जरूरत बताई, जिस पर थानाध्यक्ष बसंत कुमार ने 500 की राशि अनाथ बच्ची को देकर सुरक्षित बाल गृह भेज दिया है।

इसे भी पढ़ें :
सम्पादकीय : नेत्रदान से नेत्रहीनों की जिंदगियों में खुशियां : युद्धवीर सिंह लांबा

जानकारी के अनुसार, एचआईवी एड्स के चलते बच्ची के माता-पिता का छह साल पूर्व ही देहांत हो गया था। घर में वह अकेले चाचा-चाची की शरण में रह रही थी। लेकिन उनके दुर्व्यवहार से उसके मन में भय का वातावरण उत्पन्न हो गया, जिसके बाद वह घर और चाचा को छोड़कर थाने पहुंच गई। ग्रामीणों के मुताबिक, बच्ची के माता-पिता का लाइलाज बीमारी से निधन हो गया था। इसके माता पिता लाइलाज रोग ग्रसित थे। अचानक दोनों की मौत हो गई थी।

थानाध्यक्ष बसंत कुमार ने बताया कि बच्ची के माता-पिता का पूर्व में लाइलाज बीमारी से निधन हो गया था। मृतक अपने पीछे एक बच्ची को छोड़ गए, जिसे कोई घर परिवार रखने के लिए राजी नहीं हुआ। जबकि लड़की के माता-पिता अपने पीछे एक बीघा जमीन भी छोड़ गए हैं।

सोर्स लिन्क

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेखक की अन्य खबरें