BREAKING NEWS
स्कूल के समय में नहीं होगा बदलाव!, शिक्षा विभाग ने पोस्ट कर बता दिए नियम एंबुलेंस से हो रही थी ब्रांडेड शराब की तस्करी, उत्पाद विभाग की टीम डिजाइन को देख हैरान चुनाव बहिष्कार करने वाले सहरौन गांव के निर्दोष ग्रामीणों पर मुकदमा एवं गिरफ्तारी करने की समाजसेवियों... तीन दिन से लापता युवक की गंगा नदी से मिली लाश, प्रोपर्टी डीलर पर आरोप समस्तीपुर में गंगा नदी में डूबे असम राइफल्स के जवान का शव 16 घंटे बाद मिला, परिवार को दी गई सूचना ‘जब तक जिंदा हूं धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं करने देंगे’, मुजफ्फरपुर में बोले पीएम मोदी गया में वज्रपात से महिला समेत चार लोगों की मौत, आधा दर्जन बकरियां भी आईं चपेट में; परिजनों में कोहरा... सीएम नीतीश कुमार की तबीयत इतनी खराब है? लोकसभा चुनाव से ज्यादा इस सवाल पर लोग चिंतित गोपालगंज में प्रेमी जोड़े पर जानलेवा हमला; प्रेमिका की मौके पर मौत, युवक की हालत नाजुक नवादा में टीसी न मिलने से गुस्साए छात्रों ने स्कूल में जड़ा ताला; BEO ने पूर्व प्रभारी को किया निलंब... ढूंढा तो जहर खा लूंगी, तीन महीने भक्ति करने के लिए जा रही हूं, ऐसा लिखकर तीन सहेलियां घर से गायब बेगूसराय के बड़े स्कूल के परिसर में फेंका बम, खिड़की के पास फटा; क्यों और क्या हुआ, जानें कई दिनों से लापता मासूम का मिला शव, अगवा कर हत्या की जताई गई आशंका; पुलिस जांच में जुटी 50 हजार का इनामी कुख्यात गिरफ्तार, पुलिस की आंख में धूल झोंककर काट रहा था फरारी; अब सलाखों के पीछे दो दिन से लापता किशोर का तालाब में मिला शव, भाई ने कहा- मोहित के साथ हुई अप्रिय घटना; पुलिस करे जांच फांसी का फंदा लगाकर किशोरी ने की आत्महत्या, पारिवारिक विवाद के चलते उठाया कदम; पुलिस जांच में जुटी 7 महीने बाद प्रिंसिपल हत्याकांड से उठा पर्दा, 8 लाख के विवाद में हुई थी हत्या; ढाई लाख की दी गई सुपा... रेल पुलिस ने 67 लाख 28 हजार रुपए के साथ एक शख्स को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस शाहनवाज हुसैन तेजस्वी यादव पर बरसे, क्यों कहा- ..लालू जी का अपमान करने लगते हैं जांघ में थी परेशानी, चली गई जान; डॉक्टर के बगैर खून-स्लाइन चढ़ाने का आरोप, परिजनों ने काटा बवाल
मौसम पूर्वानुमानपटना, वैशाली समेत बिहार के कई जिलों में झमाझम बारिश, अगले 48...

पटना, वैशाली समेत बिहार के कई जिलों में झमाझम बारिश, अगले 48 घंटे ऐसा ही रहेगा मौसम; 12 अक्टूबर के बाद ठंड दे सकती है दस्तक

मौसम पूर्वानुमान : बिहार पर जाते-जाते मानसून मेहरबान है। पटना, वैशाली, समस्तीपुर और अरवल समेत बिहार के कई जिलों में सोमवार को झमाझम बारिश हो रही है। बिहार के 19 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट है। अगले 48 घंटे में बारिश के साथ आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है। इधर, नेपाल में हो रही लगातार बारिश के चलते गंडक नदी उफान पर चल रही है। गंडक से सटे गोपालगंज, मोतिहारी में गंडक खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। कई गांवों में बाढ़ जैसे हालात हैं।

बिहार में मानसून विदाई से पहले एक बार फिर से जमकर बरस रहा है। मौसम विभाग ने सोमवार को उत्तर पश्चिम और दक्षिण पश्चिम में अच्छी बारिश होने की संभावना जताई जा रही है। पिछले कुछ दिनों से नेपाल के तराई वाले इलाकों में हुई बारिश की वजह से गंडक नदी के जलस्तर में जबरदस्त बढ़ोतरी देखी जा रही थी। दूसरी तरफ वाल्मीकि नगर बैराज के 36 गेट खोल दिए गए थे।

गोपालगंज में बारिश के चलते अस्पताल के बाहर पानी भर गया।

गोपालगंज में बारिश के चलते अस्पताल के बाहर पानी भर गया।

इधर मौसम विभाग ने प्रदेश के 19 जिलों में भारी बारिश होने की संभावना जताई है। इसमें पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज, सारण, सिवान, वैशाली, मुजफ्फरपुर, शिवहर, सीतामढ़ी, समस्तीपुर, दरभंगा, मधुबनी, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, अररिया और किशनगंज शामिल हैं।

शुक्रवार को गंडक बैराज के 36 गेट खोले गए थे।

शुक्रवार को गंडक बैराज के 36 गेट खोले गए थे।

12 अक्टूबर तक ठंड दे सकती है दस्तक

बता दें कि प्रदेश भर में अगले 2 से 4 दिनों तक बारिश होने की संभावना मौसम विभाग के द्वारा जताई जा रही है। इसके बाद मानसून की विदाई संभव है। वहीं मौसम विभाग ने यह भी संभावना जताई है कि प्रदेश भर में 12 या फिर 13 अक्टूबर से ठंड का मौसम शुरू होने लगेगा। यानी अगले हफ्ते से तापमान में तेजी से गिरावट आएगी।

गोपालगंज में बारिश के बाद सड़कों पर पानी भर गया।

गोपालगंज में बारिश के बाद सड़कों पर पानी भर गया।

खतरे के निशान से ऊपर बह रही गंडक, अगले 48 घंटे तक हाई अलर्ट

बता दें कि गंडक बैराज से शुक्रवार की सुबह 4 लाख 45 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। इसके बाद निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। बाढ़ का पानी नए नए इलाकों में फैले लगा है। गोपालगंज में नदी खतरे के निशान के पार होने के बाद वैशाली और मुजफ्फरपुर में भी लाल निशान पार करने की संभावना जताई जा रही है। जल संसाधन विभाग द्वारा अगले 48 घंटे तक हाई अलर्ट जारी किया गया है।

बाढ़ से पलायन को मजबूर लोग

गोपालगंज पश्चिमी और पूर्वी चंपारण के बड़े इलाकों में बाढ़ का पानी फैलने से वहां पर रहने वाले लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोग वहां से पलायन करने को मजबूर हो रहे है। वहीं दूसरी तरफ गंडक नदी में उफान के कारण गंगा नदी के जल स्तर में भी बढ़ोतरी देखी जा रही है। गंगा नदी का जलस्तर बक्सर, पटना, मुंगेर, भागलपुर में लगातार बढ़ रहा है।

गोपालगंज जिला अस्पताल के बाहर कुछ इस तरह से पानी भर गया।

गोपालगंज जिला अस्पताल के बाहर कुछ इस तरह से पानी भर गया।

इसे भी पढ़ें :
मौसम पूर्वानुमान, दिन में धूप से गरमाहट तो रात में गुलाबी ठंड, अगले 2-3 तीन दिनों तक ऐसा ही रहेगा मौसम, सेहत का रखें ख्याल

बाढ़ से किसान का हो सकता है नुकसान

वहीं इस साल बारिश होने के बावजूद जिला बाढ़ से वंचित रहा। लेकिन अब बिन मौसम बारिश से किसानों की फसलें बर्बाद होने के कगार पर है। वहां के कई इलाकों में गंडक नदी का पानी फैलना शुरू हो गया है। जिसके कारण धान के खेत भी डूब गए है, साथ ही सब्जियों के खेत में भी पानी भर चुका है। हालांकि जिला प्रशासन की ओर से लगातार वहां पर रह रहे लोगों से अपील की जा रही है कि वह अपने घर को छोड़कर वहां से निकल जाए।

नेपाल में हो रही बारिश के चलते मोतिहारी में गंडक उफान पर है। गंडक बैराज से पानी छोड़े जाने के कारण मोतिहारी के अरेराज संग्रामपुर से हो कर गुजरने वाली गंडक नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। जिससे अरेराज अनुमंडल क्षेत्र के अरेराज और संग्रामपुर प्रखंड के निचले इलाकों में बाढ़ का पानी काफी तेजी से घुस रहा हैं। स्थिति यह है की गंडक का पानी कई लोगों के घरों में घुस गया हैं। जिसके कारण कई घरों में चूल्हा तक नहीं जल रहा हैं।

इस सब के बावजूद लेकिन जिला प्रशासन के तरफ से बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए सुखा राहत की व्यवस्था अब तक किया गया हैं। प्रशासन बाढ़ पीड़ितों को अपने हाल पर छोड़ दिया है। जिसको लेकर लोगो के अंदर प्रशासन के प्रति आक्रोश देखा जा रहा हैं।

गोंडा में घाघरा-सरयू उफान पर, बिसुही नदी में बाढ़:नेपाल से छोड़ा गया 4 लाख क्यूसेक पानी, 100 गांव की 20 हजार की आबादी प्रभावित

लगातार बारिश और नेपाल से छोड़े गए पानी की वजह से गोंडा में नदियां उफान पर आ गई हैं। प्रमुख रूप से घाघरा और सरयू खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। जिससे गोंडा के अलग अलग इलाकों के सौ गांव में बाढ़ का पानी घुस गया है। जिससे लगभग 20 हजार की आबादी प्रभावित है। किसानों की फसल चौपट हो चुकी है। घर छोड़कर शेल्टर होम की ओर रूख करना पड़ा है। जबकि जानवरों के चारे की समस्या भी खड़ी हो गई है। दूसरी तरफ भिखारीपुर सकरौर तटबंध पर दबाव बढ़ता जा रहा है। विभागीय अधिकारी बांध के सुरिक्षत होने का दावा तो कर रहे हैं, लेकिन ग्रामीण बांध की सुरक्षा को लेकर सशंकित नजर आ रहे हैं।

सोर्स लिन्क : दैनिक भास्कर

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेखक की अन्य खबरें