BREAKING NEWS
स्कूल के समय में नहीं होगा बदलाव!, शिक्षा विभाग ने पोस्ट कर बता दिए नियम एंबुलेंस से हो रही थी ब्रांडेड शराब की तस्करी, उत्पाद विभाग की टीम डिजाइन को देख हैरान चुनाव बहिष्कार करने वाले सहरौन गांव के निर्दोष ग्रामीणों पर मुकदमा एवं गिरफ्तारी करने की समाजसेवियों... तीन दिन से लापता युवक की गंगा नदी से मिली लाश, प्रोपर्टी डीलर पर आरोप समस्तीपुर में गंगा नदी में डूबे असम राइफल्स के जवान का शव 16 घंटे बाद मिला, परिवार को दी गई सूचना ‘जब तक जिंदा हूं धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं करने देंगे’, मुजफ्फरपुर में बोले पीएम मोदी गया में वज्रपात से महिला समेत चार लोगों की मौत, आधा दर्जन बकरियां भी आईं चपेट में; परिजनों में कोहरा... सीएम नीतीश कुमार की तबीयत इतनी खराब है? लोकसभा चुनाव से ज्यादा इस सवाल पर लोग चिंतित गोपालगंज में प्रेमी जोड़े पर जानलेवा हमला; प्रेमिका की मौके पर मौत, युवक की हालत नाजुक नवादा में टीसी न मिलने से गुस्साए छात्रों ने स्कूल में जड़ा ताला; BEO ने पूर्व प्रभारी को किया निलंब... ढूंढा तो जहर खा लूंगी, तीन महीने भक्ति करने के लिए जा रही हूं, ऐसा लिखकर तीन सहेलियां घर से गायब बेगूसराय के बड़े स्कूल के परिसर में फेंका बम, खिड़की के पास फटा; क्यों और क्या हुआ, जानें कई दिनों से लापता मासूम का मिला शव, अगवा कर हत्या की जताई गई आशंका; पुलिस जांच में जुटी 50 हजार का इनामी कुख्यात गिरफ्तार, पुलिस की आंख में धूल झोंककर काट रहा था फरारी; अब सलाखों के पीछे दो दिन से लापता किशोर का तालाब में मिला शव, भाई ने कहा- मोहित के साथ हुई अप्रिय घटना; पुलिस करे जांच फांसी का फंदा लगाकर किशोरी ने की आत्महत्या, पारिवारिक विवाद के चलते उठाया कदम; पुलिस जांच में जुटी 7 महीने बाद प्रिंसिपल हत्याकांड से उठा पर्दा, 8 लाख के विवाद में हुई थी हत्या; ढाई लाख की दी गई सुपा... रेल पुलिस ने 67 लाख 28 हजार रुपए के साथ एक शख्स को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस शाहनवाज हुसैन तेजस्वी यादव पर बरसे, क्यों कहा- ..लालू जी का अपमान करने लगते हैं जांघ में थी परेशानी, चली गई जान; डॉक्टर के बगैर खून-स्लाइन चढ़ाने का आरोप, परिजनों ने काटा बवाल
आस्था और विश्वाससिर्फ कायस्थ ही नहीं, आपको भी करनी चाहिए चित्रगुप्त पूजा अगर...; जानें...

सिर्फ कायस्थ ही नहीं, आपको भी करनी चाहिए चित्रगुप्त पूजा अगर…; जानें क्यों कह रहे पंडित ऐसा

आस्था और विश्वास : कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया बुधवार को है। गोवर्धन पूजा में प्रतिपदा, यानी पहली तिथि को लेकर संशय था लेकिन द्वितीय तिथि की पूजा पर कोई ऊहापोह नहीं। कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि को चित्रगुप्त पूजा और भाई दूज होगा। भगवान चित्रगुप्त कायस्थों के जन्मदाता हैं, लेकिन पंडितों का कहना है कि लेखनी विद्या से आजीविका चलाने वाले सभी लोगों को यह पूजा जरूर करनी चाहिए। बिहार में बुधवार को इस अवसर पर सबसे बड़ा सामाजिक समारोह होगा, जिसमें राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी हर बार की तरह रहेंगे। इस कार्यक्रम में हर जाति, यहां तक कि दूसरे धर्म के लोग भी पहुंचते रहे हैं।

दीपोत्सव की कड़ी का अंतिम पर्व

कर्मकांड विशेषज्ञ पंडितों के अनुसार भाईदूज और चित्रगुप्त पूजा दीपोत्सव की कड़ी का अंतिम पर्व है। इसके बाद बिहार में लोक आस्था के महापर्व छठ की तैयारी शुरू हो जाएगी। भाईदूज सनातन हिंदू धर्म की कई जातियों में स्त्रियां करती हैं। अविवाहित लड़की-युवती हो या विवाहित महिलाएं, सभी भाईदूज करेंगी। कायस्थ जाति की विवाहित महिलाएं परंपरा के अनुसार चाहेंगी कि उनका भाई उनकी ससुराल में आकर भगवान चित्रगुप्त की पूजा करे और भाईदूज के बाद प्रसाद के साथ उनके हाथों का बना भोजन करे। पंडित शशिकांत मिश्र बताते हैं कि “कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया को दोनों ही त्योहार हैं। जाति से पंडित होने के बावजूद हमारे घर में भाईदूज के साथ भगवान चित्रगुप्त की भी पूजा होती है, क्योंकि हम कलमजीवी भी हैं। जो भी कलमजीवी हैं, उन्हें भगवान चित्रगुप्त की पूजा जरूर करनी चाहिए। लेखकों को अक्षर प्रदान करने वाले भगवान चित्रगुप्त की पूजा बिहार में कायस्थों के अलावा ब्राह्मण, भूमिहार तो कर ही रहे हैं, बाकी जातियों में भी अब चेतना जागी है।”

यूपीएससी टॉपर इशिता के नाना संरक्षक थे

संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में ऑल इंडिया रैंक-1 पर रहीं इशिता किशोर के नानाजी स्वर्गीय बनवीर प्रसाद गर्दनीबाग ठाकुरबाड़ी चित्रगुप्त पूजा समिति के संरक्षक और गर्दनीबाग ठाकुरबाड़ी वासंती दुर्गापूजा समिति के प्रथम अध्यक्ष थे। इसी गर्दनीबाग ठाकुरबाड़ी में राज्य का सबसे बड़ा सामाजिक आयोजन हर चित्रगुप्त पूजा पर होता है। गर्दनीबाग ठाकुरबाड़ी प्रबंधन न्यास समिति के अध्यक्ष और पूर्व विधान पार्षद प्रो. रणवीर नंदन बताते हैं कि “चित्रगुप्त पूजा पर हर साल कायस्थ समाज का तो सबसे बड़ा जमावड़ा यहां लगता ही है, बाकी जातियों के लोग भी सबसे ज्यादा इसी आयोजन में शरीक होते हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत तमाम प्रमुख राजनेता, भले वह किसी दल या जाति के हों- आते हैं। इस बार समाज में रक्तदान के महत्व का संदेश देने के लिए यहां रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया जा रहा है।”

इसे भी पढ़ें :
दीपावली पर दरिद्रता को भगाने का इंतजाम जानते हैं? दिवाली पर अनूठी परंपरा है बिहार के मिथिला में

सोर्स लिन्क

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेखक की अन्य खबरें