BREAKING NEWS
स्कूल के समय में नहीं होगा बदलाव!, शिक्षा विभाग ने पोस्ट कर बता दिए नियम एंबुलेंस से हो रही थी ब्रांडेड शराब की तस्करी, उत्पाद विभाग की टीम डिजाइन को देख हैरान चुनाव बहिष्कार करने वाले सहरौन गांव के निर्दोष ग्रामीणों पर मुकदमा एवं गिरफ्तारी करने की समाजसेवियों... तीन दिन से लापता युवक की गंगा नदी से मिली लाश, प्रोपर्टी डीलर पर आरोप समस्तीपुर में गंगा नदी में डूबे असम राइफल्स के जवान का शव 16 घंटे बाद मिला, परिवार को दी गई सूचना ‘जब तक जिंदा हूं धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं करने देंगे’, मुजफ्फरपुर में बोले पीएम मोदी गया में वज्रपात से महिला समेत चार लोगों की मौत, आधा दर्जन बकरियां भी आईं चपेट में; परिजनों में कोहरा... सीएम नीतीश कुमार की तबीयत इतनी खराब है? लोकसभा चुनाव से ज्यादा इस सवाल पर लोग चिंतित गोपालगंज में प्रेमी जोड़े पर जानलेवा हमला; प्रेमिका की मौके पर मौत, युवक की हालत नाजुक नवादा में टीसी न मिलने से गुस्साए छात्रों ने स्कूल में जड़ा ताला; BEO ने पूर्व प्रभारी को किया निलंब... ढूंढा तो जहर खा लूंगी, तीन महीने भक्ति करने के लिए जा रही हूं, ऐसा लिखकर तीन सहेलियां घर से गायब बेगूसराय के बड़े स्कूल के परिसर में फेंका बम, खिड़की के पास फटा; क्यों और क्या हुआ, जानें कई दिनों से लापता मासूम का मिला शव, अगवा कर हत्या की जताई गई आशंका; पुलिस जांच में जुटी 50 हजार का इनामी कुख्यात गिरफ्तार, पुलिस की आंख में धूल झोंककर काट रहा था फरारी; अब सलाखों के पीछे दो दिन से लापता किशोर का तालाब में मिला शव, भाई ने कहा- मोहित के साथ हुई अप्रिय घटना; पुलिस करे जांच फांसी का फंदा लगाकर किशोरी ने की आत्महत्या, पारिवारिक विवाद के चलते उठाया कदम; पुलिस जांच में जुटी 7 महीने बाद प्रिंसिपल हत्याकांड से उठा पर्दा, 8 लाख के विवाद में हुई थी हत्या; ढाई लाख की दी गई सुपा... रेल पुलिस ने 67 लाख 28 हजार रुपए के साथ एक शख्स को किया गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस शाहनवाज हुसैन तेजस्वी यादव पर बरसे, क्यों कहा- ..लालू जी का अपमान करने लगते हैं जांघ में थी परेशानी, चली गई जान; डॉक्टर के बगैर खून-स्लाइन चढ़ाने का आरोप, परिजनों ने काटा बवाल
केटेगरी :
खगड़ियासंयुक्त किसान मोर्चा के देशव्यापी आह्वान पर तिरंगा झंडा के साथ निकाला...

संयुक्त किसान मोर्चा के देशव्यापी आह्वान पर तिरंगा झंडा के साथ निकाला ट्रैक्टर मार्च

  • संविधान दिवस पर केंद्र सरकार द्वारा संविधान को समाप्त करने की साजिश के खिलाफ जमकर बरसे किसान नेता

खगड़िया सदर : संयुक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले केंद्र सरकार के द्वारा वादा खिलाफी एवं ऐतिहासिक आंदोलन के साथ धोखा देने के विरोध में ट्रैक्टर मार्च तिरंगा झंडा के साथ संसारपुर मैदान से निकाला गया जो परमानंदपुर ढाला होते हुए कोशी कालेज रोड, कचहरी रोड, ओवर ब्रिज, राजेंद्र चौक, बेंजामिन चौक, महात्मा गांधी रोड होते हुए एन एच 31 बलुआही स्टैंड पर पहुंचकर सभा में तब्दील हो गया।

सभा को संबोधित करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों का वाजिब मांग पूरा नहीं कर रही है। किसान आत्मदाह करने को विवश है। किसानों के जमीन को पूंजीपतियों को सौंपने की साजिश की जा रही है। किसानों को अपने अधिकार के प्रति सजग होने की जरूरत है।

किसान नेताओं ने अनाज का न्यूनतम समर्थन मूल्य देने, अनाज का डेढ़ गुना दाम देने, किसानों का सभी प्रकार का लोन माफ करने, 750 शहीद किसानों के आश्रितों को 20 लाख रुपया मुआवजा देने एवं सरकारी नौकरी देने, लखीमपुर घटना के जिम्मेदार अजय मिश्रा एवं उसके बेटे आशीष टोनी को फांसी देने, किसान आंदोलन के साथ किए गए तमाम समझौते को धरातल पर लागू करने, बिजली बिल वापस लेने, हिट एंड रन से संबंधित ड्राइवर विरोधी कानून को रद्द करने, आंदोलन के क्रम में किसानों पर किए गए मुकदमे को समाप्त करने, गैर मजरूवा खास जमीन का रसीद काटने, मोटेशन करने एवं खरीद बिक्री पर लगी रोक जल्द हटाने, किसानों के धान अधिप्राप्ति में प्रति क्विंटल 500 रुपए अतिरिक्त बोनस देने एवं कालाबाजारी पर रोक लगाने, खाद बीज की कालाबाजारी पर रोक लगाने एवं सस्ते दर पर किसानों को उपलब्ध कराने तथा किसानों को सब्सिडी रेट पर खाद मुहैया करने, सभी प्रकार के किसानों का ऋण माफ करने एवं लोन उपलब्ध करने की गारंटी करने की मांगों के बाबत महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया।

इसे भी पढ़ें :
पर्यावरण संरक्षण और सुरक्षा को लेकर पत्रकार ने पेड़ किया उपहार,दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

ट्रैक्टर मार्च में किसान संघर्ष समन्वय समिति के प्रभा शंकर सिंह, प्रभाकर सिंह, रविंद्र यादव, किरण देव यादव, शैलेंद्र वर्मा, अभय वर्मा, सुरेंद्र महतो, अनिल वर्मा, सच्चिदानंद सिंह, विनय कुमार, धर्मेंद्र कुमार, जितेंद्र कुमार, भीम शाह, कुंदन मेहता, धर्मेंद्र यादव, विभाष बोस, रामप्रवेश, मनोज सदा, आदि दर्जनों किसान नेताओं ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर बरसे। किसान नेताओं ने कहा कि मोदी की पूंजीपरस्त सरकार किसान मजदूर आमजन विरोधी है। नेताओं ने किसान मजदूर विरोधी सरकार को गद्दी से उखाड़ फेंकने का आमजनों से आह्वान किया।

सम्बन्धित खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेखक की अन्य खबरें